हम पृथ्वी के फेफड़ों को पुनर्स्थापित करना चाहते हैं: महिलायें हों पारिस्थितिक बहाली के शीर्ष पर


हम, “फेमिनिस्टास कैम्पेसिनास” (ग्रामीण नारीवादी महिलायें)”, पृथ्वी के फेफड़ों को पुनर्स्थापित करना चाहती हैं।

कोविड -19 महामारी हमें हमारे भोजन और कृषि प्रणालियों की नाजुकता दिखा रही है, और कितने खेत ताड़ के तेल और गन्ने के साथ औद्योगिक एकल कृषि (मोनोकल्चर) बन गये हैं, या कॉफी और कोको जैसी नकदी फसलों के उत्पादन पर केंद्रित हैं। इससे मिट्टी खराब हो गई है और देशी जंगल नष्ट हो गये हैं। परिणाम स्वरूप, स्थानीय समुदाय जो ऐतिहासिक रूप से आत्मनिर्भर थे, अब अपना पेट भरने में सक्षम नहीं हैं और आपूर्ति की कमी का सामना कर रहे हैं। कई स्थानीय समुदाय, महिलायें और ज़मीनी स्तर के समूह चुनौतियों का सामना कर रहे हैं जो हमें समुत्थान शक्ति (रेजीलिअंस), खाद्य सुरक्षा और पानी के मुद्दों पर पुनर्विचार करने के लिये प्रेरित करते हैं।

अब समय आ गया है कि हम अपनी प्रणालियों (सिस्टम्स) पर एक समग्र दृष्टिकोण के साथ पुनर्विचार करें, और उन नीतियों और प्रथाओं को बढ़ावा देना शुरू करें जो ग्रह की पारिस्थितिक स्थिरता की ओर ले जाती हैं, हमारे जंगलों और खेतों में समृद्ध जैव विविधता की खेती करती हैं, और इस प्रकार हमारे भोजन के माध्यम से हमें स्वास्थ्य प्रदान करती हैं। एनालॉग वानिकी एक ऐसा ही तरीका है।

यह प्राकृतिक वनों की नकल करके पारिस्थितिक तंत्र को बहाल करने का एक तरीका है, लेकिन यह फल और अखरोट के पेड़, कॉफी, चाय, कोको, एवोकैडो और औषधीय पौधों जैसी उपयोगी प्रजातियों से समृद्ध है। यह जल संतुलन को पुनर्स्थापित करता है और स्थानीय समुदाय के लिये आय उत्पन्न करता है। एनालॉग वानिकी का उपयोग जलवायु परिवर्तन के खिलाफ एक शक्तिशाली हथियार है क्योंकि यह वनों की कटाई को रोकता है, मिट्टी को पुनर्स्थापित करता है और जैव विविधता को बढ़ाता है। स्वस्थ और लचीला पारिस्थितिक तंत्र प्राप्त करने के लिये यह आवश्यक है जिसमें विपत्तियों, सूखे और अन्य जलवायु परिवर्तन से संबंधित खतरों के लिये प्राकृतिक प्रतिरोध हो। ये पुनः प्राप्त और बहाल किये गये  वन वायु शोधक और बड़े कार्बन सिंक हैं।

एनालॉग वानिकी जेंडर असमानता के खिलाफ भी एक शक्तिशाली उपकरण है; यह नारीवादी लड़ाई का हिस्सा है। निकारागुआ के संदर्भ में पारंपरिक कृषि उत्पादन प्रणाली में, महिलायें श्रम शक्ति से अधिक कुछ नहीं हैं, एक वस्तु की तरह हैं जिसका उपयोग किया जाता है। एनालॉग वानिकी हमारे लिये स्वस्थ भोजन के उत्पादन में शामिल होने और अपने स्वयं के आहार और स्वास्थ्य पर स्वामित्व हासिल करने का एक अवसर है। यह हमें अधिक स्वायत्तता देता है।

लेकिन यह केवल तकनीकी नहीं है। एनालॉग वानिकी – जब इसे नारीवादी दृष्टिकोण के साथ लागू किया जाता है – तो यह भूमि अधिकारों और आम लोगों के लिये निरंतर नारीवादी लड़ाई का हिस्सा हो सकता है। भूमि एक सामान्य वस्तु है जो हमें शक्ति प्रदान करती है और हमें गरिमा के साथ जीने की आवश्यकता है, इसलिये हमें भूमि के स्वामित्व, भूमि तक पहुँच और नियंत्रण के लिये लड़ने की ज़रूरत है।

यह सच कि अब मैं भूमि का प्रबंधन करती हूँ, इससे ऐसा लगता है कि सदियों से चली आ रही असमानता की व्यवस्था टूट गई है। अब मैं अपना भोजन खुद उगा सकती हूँ। औपनिवेशिक तरीके से नहीं, जहाँ मैं जमीन का शोषण और दोहन करती हूँ, बल्कि आध्यात्मिक-पारिस्थितिक तरीके से। मैं, हम स्वदेशी महिलाओं का पृथ्वी के साथ जो ऐतिहासिक संबंध है उसको बहाल कर सकती हूँ; पृथ्वी का स्वास्थ्य मेरा भी है। वास्तव में, हम सम्मान और सद्भाव पर आधारित व्यवस्था बनाकर शोषण की भौतिकवादी व्यवस्था के खिलाफ विद्रोह कर रहे हैं।

एनालॉग वानिकी प्रशिक्षण के दो साल बाद, मैं अब तक कॉफी, केला, पैशनफ्रूट, सूरजमुखी, विभिन्न मसालों और सब्जियों की फसल लगा सकती हूँ, और अगले साल मेरे पास एवोकैडो भी होगा। मैं अन्य महिलाओं और अन्य परिवारों के लिये एक उदाहरण बनना चाहती हूँ, और उन्हें दिखाना चाहती हूँ अधिक टिकाऊ उत्पादन संभव है। मैं अपने जंगल को एक प्रदर्शन स्थल, सीखने और अनुभवों के आदान-प्रदान के लिये एक जगह के रूप में उपयोग करना चाहती हूँ। मैं अन्य महिलाओं को प्रेरित करना चाहती हूँ, अपने ज्ञान को साझा करना, खाद्य सुरक्षा और संप्रभुता को बढ़ावा देना, औषधीय पौधों के उपयोग और जल स्रोतों को बहाल करना चाहती हूँ। मुझे आशा है कि मेरे समुदायों के अन्य परिवार मेरे साथ जुड़ेंगे और अपना एनालॉग वन शुरू करेंगे।

महिलाओं को अक्सर खाद्य संप्रभुता, पानी और स्वच्छ और रहने के सुरक्षित वातावरण के अधिकार से वंचित किया जाता है। उन्हें पारिस्थितिक बहाली के शीर्ष पर रखकर, आप उन्हें वो अधिकार देते हैं। धरती माता की तरह नारी जीवन देती है। अगर पृथ्वी स्वस्थ है तो हम आध्यात्मिक, शारीरिक और मानसिक रूप से भी स्वस्थ हैं। वह हमें, महिलाओं को सशक्त बनाती है ताकि हम उन मज़बूत पेड़ों की तरह बन जायें जिन्हें आप अपनी ज़मीन पर ऊपर आकाश से देखते हैं।

लूज मरीना वाये एक नारीवादी किसान हैं, जिन्हें कृषि और सहकारी प्रबंधन में एक इंजीनियर के रूप में प्रशिक्षित किया गया है। वे Fundacion Entre Mujeres (FEM) की सदस्य हैं और उत्तरी निकारागुआ में एल जोकोटे (El Jocote) के अपने समुदाय में एनालॉग वानिकी की एक स्थानीय प्रमोटर हैं। आप यहाँ  अंतर्राष्ट्रीय एनालॉग वानिकी नेटवर्क के बारे में अधिक जान सकते हैं।


Related Post

October 2021 | Now is the time for urgent climate action

With extreme weather events impacting every region of the world in recent months and stark warnings from the latest IPCC report,…

See more

दक्षिणी विश्वका नारीवादीहरुका तर्फबाट कोप निर्णयकर्ताहरूका लागि : जलवायु न्यायका लागि आमूल परिवर्तन

“जलवायु न्यायको अर्थ… – अस्थिर उत्पादन, उपभोग र व्यापार सहितका जलवायु संकटका कारक तत्वलाई सम्बोधन गर्दै – समानता र मानव…

See more

Report | Intrinsically linked: gender equality, climate and biodiversity

The worldwide climate crisis, loss of biodiversity and continuing gender inequality are intrinsically linked. Solving the climate and biodiversity crises…

See more

Subscribe to our newsletter

Sign up and keep up to date with our network's collective fight for a gender and environmentally just world.